19 February 2018 03:31 PM

Search
English

THE CITIZEN | 3 OCTOBER, 2017

हनीप्रीत का बाबा राम रहीम में विश्वास अब भी अडिग, ऐसे किया बचाव

हनीप्रीत का बाबा राम रहीम में विश्वास अब भी अडिग, ऐसे किया बचाव


  •  
  •  
  • Youtube

 

38 से फरार चल रही हनीप्रीत को आखिरकार 'आजतक' ने खोज निकाला. 'आजतक' को अपने पहले इंटरव्यू में हनीप्रीत न सिर्फ अपनी कहानी बताई बल्कि खुद को बेगुनाह साबित करने की कोशिश की. इसी कड़ी में उसने बातचीत में रेप आरोपी राम रहीम का बचाव किया. हनीप्रीत के बयानों से साफ है कि रेप आरोप में सजा, पंचकूला में हिंसा, कई लोगों की मौत, कई आरोपों के बाद भी वह राम रहीम को कतई दोषी नहीं मान रही है. उसका विश्वास अब भी अडिग है.

 

फैसले वाले दिन राम रहीम के साथ रहने पर क्या कहा?

हनीप्रीत ने कहा- आपने पूरी स्थिति देखी है. मैं कहां गुनहगार हूं. मैंने बेटी का फर्ज अदा किया. मैंने कहां बोला है? मैं कहां किस दंगे में शामिल रही हूं? मैं तो खुशी-खुशी कोर्ट गई, ताकि शाम तक वापस आ जाएंगे. लेकिन फैसला खिलाफ आ गया. हमारा तो दिमाग ही काम करना बंद कर दिया. ऐसे में हम क्या किसी के खिलाफ साजिश रच पाते. बता दें कि जिस दिन रोहतक की सीबीआई कोर्ट ने राम रहीम को सजा सुनाई थी उस दौरान गेस्ट हाउस तक हनीप्रीत उसके साथ थी. हेलिकॉप्टर में भी वह राम रहीम के साथ दिखी थी. उसके बाद ही वह लापता हुई थी.

कहा-पापा के बिना हुई बेसहारा

हनीप्रीत पुलिस के सामने पेश नहीं होने पर रोते हुए बोली आप मेरी कंडीशन समझिएगा. मैं डिप्रेशन में चली गई थी. जो लड़की अपने पापा के साथ देशभक्ति की बात करती थी, वो जेल में चले गए. फिर उस लड़की पर देशद्रोह का आरोप लगाया गया. मुझे कानून की प्रक्रिया का पता ही नहीं था. पापा के जाने के बाद मैं तो बेसहारा हो गई. मुझे लोगों ने जैसा गाइड किया मैंने वैसे ही किया. मैं हरियाणा-पंजाब हाईकोर्ट जाऊंगी. पीछे नहीं हटी. लेकिन मेंटल स्थिति संभलने में थोड़ा टाइम लगता है.

 

डेरे में जो नरकंकाल और राम रहीम पर लगे बाकी आरोपों पर क्या कहा?

हनीप्रीत ने कहा- आप बताइए, क्या डेरे में नरकंकाल मिले? क्या आरोप लगाने वाली लड़कियां मिलीं? उन हजारों लड़कियों की बात अनसुनी करके सिर्फ एक खत के आधार पर किसी को कैसे गुनहगार ठहराया जा सकता है? मेरे पापा बेगुनाह हैं और आने वाले वक्त में बेगुनाह साबित होंगे.

 

कहा- पापा को मिलेगा न्याय

हनीप्रीत ने कहा- मुझे और मेरे पापा (राम रहीम) को न्याय पर पूरा भरोसा था. मुझे पूरा यकीन है कि हमें न्याय जरूर मिलेगा.

पापा-बेटी के रिश्तों पर सफाई

हनीप्रीत ने कहा- मुझे समझ में नहीं आता है कि बाप-बेटी के पवित्र रिश्ते को उछाला जा रहा है. मेरे मुख्य डर का कारण ही यही था कि हनीप्रीत को क्या प्रेजेंट किया. एक बाप-बेटी के रिश्ते को ऐसे तार-तार कर दिया . क्या एक बाप अपनी बेटी के सिर के उपर हाथ नहीं रख सकता है. क्या एक बेटी अपने बाप से प्यार नहीं कर सकती है.

न्यूज़ सरोवर


संबंधित


नागरिक द सिटीजन को स्वतंत्र रखते है सहयोग करें !